छात्रों द्वारा हस्ताक्षर अभियान.

Talha Mannan for YuvaAdda.com

17 फरवरी 2017, को स्टूडेंट्स इस्लामिक ऑर्गनाइज़ेशन ऑफ इंडिया (एएमयू ज़ोन) की ओर से अलीगढ़ मुस्लिम युनिवर्सिटी के छात्रावास के छात्रों द्वारा शुक्रवार को हस्ताक्षर अभियान चलाया गया. यह हस्ताक्षर अभियान लगभग चार महीनों से लापता, जवाहर लाल नेहरू युनिवर्सिटी के छात्र नजीब अहमद व विश्वविद्यालय परिसर में अल्पसंख्यकों की सुरक्षा के विषय में था.

जैसा कि सब जानते हैं, पिछले लगभग चार महीनों से देश के एक प्रतिष्ठित केंद्रीय विश्वविद्यालय जेएनयू से एक स्टूडेंट गायब है. नजीब के गायब होने से एक दिन पहले उसकी झड़प अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कुछ लोगों से हुई थी, उसके बाद से ही वह लापता है. न ही सरकार और न ही दिल्ली पुलिस इस मामले को गंभीरता से ले रही है. अभी कुछ दिनों पहले ही अदालत में विपक्ष के वकील ने कहा, “दिल्ली से रोज़ाना लगभग 18 लोग गायब होते हैं, तो ऐसे में एक नजीब के गायब होने को इतनी गंभीरता से क्यों लेना चाहिए?” हालांकि विपक्ष इस मामले में अब तक कोई मज़बूत दलील नहीं दे पाया है.

इस अवसर पर जारी प्रेस रिलीज़ में एसआईओ के ज़ोनल अध्यक्ष माज़ रिज़वान ने कहा कि “विश्वविद्यालय कैम्पसेज़ में अल्पसंख्यकों की सुरक्षा का मुद्दा सरकार के लिए गंभीर विषय होना चाहिए, उन्हें इस मुद्दे को अति गंभीरता से लेना चाहिए और नजीब अहमद के केस में भी सक्रियता दिखाते हुए दोषियों पर कार्रवाई करनी चाहिए”.

नजीब के परिजन और विभिन्न छात्र संगठन साथ मिलकर अलग-अलग जगहों पर लगातार प्रदर्शन कर अपना विरोध दर्ज करा रहे हैं. इस मुद्दे पर एसआईओ भी राष्ट्रीय स्तर पर देश के विभिन्न प्रांतों में हस्ताक्षर अभियान चला रही है. इसी क्रम में आज एएमयू के परिसर में विभिन्न जगहों पर यह हस्ताक्षर अभियान चलाया गया. संगठन के अनुसार स्टूडेंटस् और टीचर्स के इस अभियान में बढ़-चढ़ कर हिस्सा लेने से लगभग दस हज़ार हस्ताक्षर प्राप्त हुए हैं, जिन्हें ज्ञापन के साथ एकत्रित कर नेशनल माइनोरिटी कमिशन भेज दिया जाएगा.

(तल्हा मन्नान एएमयू के छात्र हैं) 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here